कल इटली रवाना होंगे पीएम मोदी, खालिस्तान समर्थकों ने ऐसे मचाया हंगामा

कल इटली रवाना होंगे पीएम मोदी, खालिस्तान समर्थकों ने ऐसे मचाया हंगामा

उमाकांत त्रिपाठी।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी G7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए कल यानी 13 जून को इटली रवाना होंगे. पीएम मोदी के दौरे से पहले खालिस्तान समर्थकों ने इटली में महात्मा गांधी की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया. खालिस्तान समर्थकों ने हरदीप सिंह निज्जर का भी जिक्र किया है.
इटली में 13 से 15 जून तक G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन होगा है. इससे पहले खालिस्तानी समर्थकों ने इटली में इस नापाक करतूत को अंजाम दिया है. इस घटना की तस्वीरें सामने आई हैं, इसमें दिखाई दे रहा है कि खालिस्तानी समर्थकों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा तोड़ने के बाद वहां विरोध में नारे भी लिखे हैं.इस घटना पर विदेश मंत्रालय की प्रतिक्रिया सामने आ गई है. विदेश सचिव ने कहा कि भारत ने इटली में महात्मा गांधी की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाए जाने का मामला उठाया है, प्रतिमा को ठीक कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाए जाने को लेकर इटली के अधिकारियों से बातचीत की है, इस मामले में आवश्यक कार्रवाई की गई है.

13 से 15 जून के बीच होगा G7 शिखर सम्मेलन
प्रधानमंत्री मोदी 13 से 15 जून के बीच आयोजित होने वाले G7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए कल इटली के दौरे पर जाएंगे. इस साल G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन इटली के अपुलिया एरिया स्थित बोर्गो एग्नाज़िया के लक्जरी रिसॉर्ट में किया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा G7 शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों, जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो शामिल होंगे.

पीएम मोदी कल इटली के लिए होंगे रवाना
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पीएम मोदी 13 जून को इटली के लिए रवाना होंगे और 14 जून की देर शाम तक वापस आ जाएंगे. प्रधानमंत्री के साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी होगा, जिसमें विदेश मंत्री एस जयशंकर, विदेश सचिव विनय क्वात्रा और एनएसए अजीत डोभाल शामिल हो सकते हैं. पीएम मोदी जी-7 शिखर सम्मेलन के दौरान कई द्विपक्षीय बैठकें करेंगे, जिसमें इटली की प्रधानमंत्री जियोर्जिया मेलोनी के साथ बैठक भी शामिल है.

यूक्रेन-रूस जंग के सवाल पर क्या बोले विदेश सचिव?
यूक्रेन-रूस जंग के सवाल पर विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने बताया हमने हमेशा यह माना है कि इसे हल करने के लिए बातचीत और कूटनीति सबसे अच्छा विकल्प है. विदेश सचिव ने कहा कि G7 शिखर सम्मेलन में भारत की नियमित भागीदारी वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए भारत के प्रयासों की बढ़ती मान्यता को दर्शाती है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भारत स्विट्जरलैंड में होने वाले शांति शिखर सम्मेलन में उचित स्तर पर भाग लेगा.

कौन से देश हैं G7 में शामिल?
पिछले साल पीएम मोदी ने हिरोशिमा में G7 शिखर सम्मेलन में भाग लिया था, उन्होंने शिखर सम्मेलन के दौरान ज़ेलेंस्की के साथ-साथ अन्य विश्व नेताओं के साथ बातचीत की थी. जी-7 में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जर्मनी, कनाडा और जापान शामिल हैं. इटली वर्तमान में G7 (ग्रुप ऑफ़ सेवन) की अध्यक्षता कर रहा है और उसी हैसियत से शिखर सम्मेलन की मेज़बानी कर रहा है.