प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी बोले हमारा प्रयास है कि कोई भी जनता बिजली,गैस जैसे सुविधाओं से वंचित न रहे कहा आजादी के बाद से ध्यान नही लक्षद्वीप के इंफ्रास्ट्रक्चर पर।

प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी बोले हमारा प्रयास है कि कोई भी जनता बिजली,गैस जैसे सुविधाओं से वंचित न रहे  कहा आजादी के बाद से ध्यान नही लक्षद्वीप के इंफ्रास्ट्रक्चर पर।

उमाकांत त्रिपाठी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को लक्षद्वीप के अगत्ती में एक जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद लंबे समय तक इसके इंफ्रास्ट्रक्चर पर उतना ध्यान नहीं दिया गया।

हमारी सरकार का प्रयास है कि गरीबों के पास घर हो, टॉयलेट हो, बिजली, गैस जैसी सुविधाओं से कोई भी वंचित न रहे। लक्षद्वीप में पीएम 1 हजार 150 करोड़ रुपए की योजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे।

इससे पहले पीएम ने तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट की नई टर्मिनल बिल्डिंग का उद्घाटन किया था। इसे 1100 करोड़ रुपए में बनाया गया है।

इसके अलावा PM ने तमिलनाडु में रेल, सड़क, तेल और गैस, शिपिंग और उच्चतर शिक्षा क्षेत्र से जुड़ी 19 हजार 850 करोड़ रुपए से ज्यादा की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री आज सुबह 10:30 बजे सबसे पहले तिरुचिरापल्ली पहुंचे। यहां वे भारतीदासन विश्वविद्यालय के 38वें दीक्षांत समारोह में शामिल हुए। उन्होंने गोल्ड मेडलिस्ट स्टूडेंट्स को सम्मानित किया। प्रधानमंत्री के साथ राज्य के गवर्नर आरएन रवि और मुख्यमंत्री एमके स्टालिन भी मौजूद रहे।

लक्षद्वीप में पीएम की स्पीच की 3 बड़ी बातें…

1. लक्षद्वीप अनेक संभावनाओं से भरा है, लेकिन आजादी के बाद लंबे समय तक इसके इंफ्रास्ट्रक्चर पर उतना ध्यान नहीं दिया गया। शिपिंग यहां की लाइफ लाइन होने का बावजूद लक्षद्वीप पोर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर कमजोर ही रहा। यहां के लोगों को हेल्थ हो, शिक्षा हो, यहां तक की पेट्रोल डीजल के लिए भी बहुत परेशानियां उठानी पड़ती थी। इन सब चुनौतियों को अब हमारी सरकार दूर कर रही है।

2. हमारी सरकार का प्रयास है कि गरीबों के पास घर हो, टॉयलेट हो, बिजली, गैस जैसी सुविधाओं से कोई भी वंचित न रहे। अगत्ती सहित पूरे लक्षद्वीप के विकास के लिए भारत सरकार पूरी प्रतिबद्धता से काम कर रही है।

3. पिछले 10 सालों में यहां कई विकास योजनाएं पूरी हुई हैं। हमने मछुआरों को आधुनिक सुविधाएं दी हैं। यहां के मछुआरे अब तो टूना मछली का निर्यात भी होने लगा है, जिससे उनकी इनकम बढ़ने के रास्ते खुल गए हैं।

1. तमिल संस्कृति के बारे में बहुत कुछ सीखा
प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को तमिलनाडु की जीवंत संस्कृति और विरासत पर गर्व है। मेरे कई तमिल मित्र थे। मुझे उनसे तमिल संस्कृति के बारे में बहुत कुछ सीखने को मिला। मैं दुनिया में जहां भी जाता हूं, मैं खुद को तमिलनाडु के बारे में बात करने से नहीं रोक सकता।

पवित्र सेनगोल को नए संसद भवन में स्थापित किया गया, जो सुशासन के उस मॉडल से प्रेरणा लेने की कोशिश है, जो तमिल विरासत ने भारत को दिया है।

2. तमिलनाडु मेक इन इंडिया का ब्रांड एंबेसडर बन रहा
भारत दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुकी है। हमारे देश में दुनिया के बड़े निवेशक निवेश कर रहे हैं। इसका फायदा तमिलनाडु और देश की जनता को मिल रहा है। तमिलनाडु मेक इन इंडिया का बड़ा ब्रांड एंबेसडर बन रहा है।

3. राज्य के लोगों के साथ खड़ी है केंद्र सरकार
देश आजादी का अमृतकाल बना रहा है। जब मैं विकसित भारत की बात करता हूं तो इसमें आर्थिक और सांस्कृतिक, दोनों पहलू शामिल हैं।

PM ने आगे कहा कि पिछले कुछ हफ्ते तमिलनाडु के लोगों के लिए मुश्किल भरे रहे। हमने भारी बारिश की वजह से कई लोगों को खोया है। राज्य की प्रॉपर्टी का भी भारी नुकसान हुआ है। केंद्र सरकार इस मुश्किल समय में तमिलनाडु के लोगों के साथ खड़ी है। हम राज्य को हर तरह की मदद करेंगे।

पीएम के दौरे का शेड्यूल
प्रधानमंत्री 2-3 जनवरी को तीन राज्यों के दौरे पर हैं। दौरे की शुरूआत उन्होंने तमिलनाडु से की। दोपहर को पीएम मोदी लक्षद्वीप पहुंचे। पीएम 2 जनवरी की रात यहीं बिताएंगे, 3 जनवरी को लक्षद्वीप के कुछ कार्यक्रमों में शामिल होने के बाद वे केरल के लिए निकलेंगे।