पश्चिम बंगाल के मंत्री सुजीत बोस और विधायक तापसी रॉ. के घर ईडी ने मारा छापा।नगर पालिका में भर्ती घोटाले को लेकर हुआ एक्शन।

पश्चिम बंगाल के मंत्री सुजीत बोस और विधायक तापसी रॉ. के घर ईडी ने मारा छापा।नगर पालिका में भर्ती घोटाले को लेकर हुआ एक्शन।

उमाकांत त्रिपाठी।
पश्चिम बंगाल के मंत्री सुजीत बोस और विधायक तापस रॉय के घर पर ED ने शुक्रवार (12 जनवरी) सुबह छापा मारा। नगर पालिका भर्ती घोटाले को लेकर कोलकाता में TMC के दोनों नेताओं के घर ED ने तलाशी शुरू की, जो दोपहर तक जारी रही। इस दौरान दोनों जगहों पर कड़ी सुरक्षा देखने को मिली।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ED ने कोलकाता के बाहर भी इन नेताओं के ठिकानों पर दबिश दी है। साथ ही नगर पालिका के पूर्व उपाध्यक्ष के घर ईडी जांच करने पहुंची।

TMC बोली- भाजपा के निर्देश पर काम कर रही ED
मामले को लेकर पश्चिम बंगाल के भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा- ये सभी चोर हैं। पश्चिम बंगाल की जनता इन्हें जेल के अंदर देखना चाहती है।

TMC ने पलटवार करते हुए शुभेंदु अधिकारी को चोर कहा। TMC के स्टेट जनरल सेक्रेटरी कुणाल घोष ने कहा- ED भाजपा के निर्देश पर यह सब कर रही है। भाजपा राज्य में चुनाव हार चुकी है और उसके पास TMC का सामना करने की ताकत नहीं है। इसलिए एजेंसी का गलत उपयोग किया जा रहा है।
वहीं, शुभेंदु अधिकारी के चोर वाले बयान पर उन्होंने कहा- शुभेंदु खुद चोर हैं। सीबीआई ने उनके खिलाफ FIR भी दर्ज की है। भाजपा ने भी उन्हें चोर कहा था। इसके अलावा TMC नेता शशि पांजा ने भी ED की कार्रवाई की निंदा की। उन्होंने इसे राजनीति में बदले की कार्रवाई (पॉलिटिकल वेंडेटा) बताया।

शिक्षक भर्ती घोटाले से मिली थी नगर पालिका भर्ती घोटाले की लीड
CBI और ED बंंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच कर रही थी। इसी दौरान एजेंसियों को नगरपालिकाओं की विभिन्न भर्तियों में अनियमितताएं दिखी। ​​​​​शिक्षक भर्ती घोटाले के लिए ​ED के अधिकारियों ने कोलकाता के बिल्डर अयान सिल के ऑफिस में छापा मारा था। इस दौरान उन्हें ऑफिस में कैंडिडेट्स की आंसर शीट मिली थीं।

ईडी ने दावा किया था कि शिक्षक भर्ती घोटाले में शामिल अयान सिल समेत कई एजेंट, नगर पालिकाओं में क्लर्क, चपरासी, सफाई कर्मचारी और ड्राइवरों की भर्ती में भी शामिल हैं। ये लोग उम्मीदवारों के मार्क्स में हेर-फेर के लिए OMR शीट की छपाई कर रहे थे।
ED ने अपनी रिपोर्ट में कांचरापाड़ा, न्यू बैरकपुर, कमरहाटी, टीटागढ़, बारानगर, हालीशहर, साउथ दमदम, नॉर्थ दम दम और टाकी नगरपालिकाओं का नाम लिया था, जहां ऐसी नियुक्तियां पैसे के बदले की गई थीं। ED ने 14 मई 2023 को अयान शील के खिलाफ नगर पालिका भर्ती घोटाले को लेकर केस दर्ज किया था।