प्रबंधन गुरु प्रो. बाला वी बालचंद्रन का निधन

प्रबंधन गुरु प्रो. बाला वी बालचंद्रन का निधन

प्रबंधन गुरु और ग्रेट लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (जीएलआईएम) के संस्थापक प्रो. बाला वी बालचंद्रन का निधन हो गया। वह कुछ समय से बीमार थे।

संस्थान की ओर से मंगलवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार वह 84 वर्ष के थे और उनके परिवार में पत्नी, दो पुत्र और पौत्र हैं।

वह कुछ समय से स्वस्थ नहीं थे और 27 सितंबर को अमेरिका के शिकागो में तड़के चार बजे (स्थानीय समयानुसार) सोते समय ही उनकी मृत्यु हो गई।

बालचंद्रन ने देश में कई प्रबंधन संस्थान स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। शिक्षा में उनके योगदान के लिए उन्हें केंद्र द्वारा ‘पद्म श्री’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

जीएलआईएम ने कहा, ‘‘अत्यंत दु:ख के साथ, हम आपको डॉ बाला वी बालचंद्रन के निधन की सूचना देते हैं, जो कई लोगों के लिए प्रेरणा के स्रोत थे। हालांकि हम उन्हें बहुत याद करेंगे, हम उन्हें अपने दिलों में रखेंगे।’’

पुडुकोट्टई जिले में जन्मे बालचंद्रन ने चिदंबरम के अन्नामलाई विश्वविद्यालय से अपनी पढ़ाई पूरी की थी। उन्होंने अपने डॉक्टरेट कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिका जाने से पहले सेना में कुछ समय के लिए सेवा की थी।

इस बीच तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन और इंडिया सीमेंट्स लिमिटेड के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक एन श्रीनिवासन ने शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की।

स्टालिन ने कहा, ‘‘मैं बाला वी बालचंद्रन की खबर सुनकर दुखी हूं, जिन्होंने प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और एक शिक्षाविद् के रूप में भी थे।’’ उन्होंने एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा, ‘‘मैं उनके परिवार के सदस्यों और ग्रेट लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के छात्रों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं।’’

श्रीनिवासन ने अपने संदेश में प्रो. बालचंद्रन को ‘प्रबंधन गुरु’ बताया। श्रीनिवास ने कहा, ‘‘मैं अपने अच्छे दोस्त डॉ बाला बालचंद्रन के निधन से दुखी हूं। मैं उन्हें प्रबंधन गुरु के रूप में मानता हूं। 2000 की शुरुआत में जब चेन्नई एक शीर्ष निवेश गंतव्य के रूप में उभर रहा था, बाला ने बी स्कूल, ग्रेट लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की स्थापना कर चेन्नई और तमिलनाडु को गौरवान्वित किया था।’’